Tuesday, August 3, 2010

तू तो कुछ कर-2

तू तो कुछ कर-2
प्रेषक : राजा गर्ग

प्रिय पाठको, मैंने अपनी पहली कहानी "तू तो कुछ कर" में अपनी मैडम के बारे में ज़िक्र किया था मगर मैंने यह तो बताया ही नहीं कि वो लगती कैसी थी। वो एक कमाल की औरत जिसका कद 5'6" के आसपास है और उसकी आँखें बिलकुल नशे से भरी हुई, उसके होंठ ऐसे कि किसी ने संतरे में लाल रंग कर दिया हो और वो भी ऐसा जिसका रस कभी ख़त्म ही न हो। उसका रंग गेंहुआ, चेहरे पर कोई दाग नहीं, उसके स्तन इतने प्यारे और कोमल कि जैसे बस इन्ही का गद्दा बना कर सो जाओ, उसकी जांघों के बीच में चूत का छेद जैसे बड़ी सफ़ेद पहाड़ी में एक गुफा जो सीधा स्वर्ग में खुलती है, उसकी पसीने से भरी वो कमर जिसे देख किसी साधु का भी ईमान डगमगा जाये, उसके ब्लाऊज़ से झांकते उसके वो मम्मे जैसे कह रहे हों- हमें आज़ाद करो, हम फंस गए हैं, वो उसकी ब्रा के खुलते ही उसकी चूचियों का धड़ाम से बाहर गिरना जैसे की सालों से आज़ाद नहीं हुई हो, उसके होंठों का लंड पर ऐसा एहसास जैसे कोई मखमल के कपड़े से तुम्हारा लंड सहला रहा हो।

खैर अब मेरे मुँह पर चूत लग चुकी थी। मैं अब नई नवेली मुल्ली की तरह हो गया था, रोज़ मन करता था कि बस अपना चप्पू चलाता ही रहूँ। मगर ऐसा संभव नहीं था क्योंकि वो शादीशुदा औरत थी और एक बच्चे की माँ भी। थोड़ा सा समाज का ख्याल तो रखना ही पड़ता था। कई दिन हो गए थे मुझे उस पसीने की महक दोबारा लिए हुए।

तभी एक दिन सुबह मैडम का फ़ोन आया कि आज उनके पति दो दिन के लिए बाहर जाने वाले हैं। तो मैडम चाहती थी कि मैं उन्हीं के साथ रहूँ। मगर ऐसा नहीं हो सकता था, खैर मैंने अपने घर वालों को बोल दिया कि मैं सुबह ट्यूशन जा रहा हूँ और एक्स्ट्रा क्लास लेने के बाद अपने दोस्त के घर पढ़ाई करने चला जाऊंगा।

मैं सीधा मैडम के घर गया और साथ कुछ कंडोम भी ले गया ( इसे इस्तेमाल करने में शर्म नहीं करनी चाहिए)।

फिर क्या था, मैं जैसे ही उनके कमरे में घुसा तो देखा कि कमरा महक रहा है जैसे किसी सुहागरात में महकता है। मैडम की आँखों में चमक थी, उनकी आँखों में कई दिनों की भूख दिख रही थी। फिर उन्होंने कमरे का दरवाजा बन्द करते हुए मुझे बिस्तर पर धक्का दिया और मुझे चूमने लगी। मैंने उनके हाथों को रोक दिया और उनसे कहा- आज कुछ अलग करने का मूड है !

उन्होंने पूछा- क्या ?

तो मैंने कहा- आपकी गांड मारने का मन है !

वो बोली- पहले आगे का कार्यक्रम पूरा कर लेते हैं, तब पीछे भी जाएँगे !

मगर वो जानती है की मैं अभी छोटा हूँ, मेरा स्टेमिना कम है और वो मुझे आगे ही इतना थका देंगी कि मैं पीछे जा ही नहीं पाउँगा। मैंने जिद करके उन्हें मना ही लिया और मैंने उन्हें घोड़ी की अवस्था में बिस्तर पर टिका दिया और खुद उनके पीछे आ गया और मैं यह जान चुका था कि जब तक औरत के शरीर पर कुछ कपड़े बाकी हैं तो उसकी लेने में बड़ा मज़ा आएगा, मगर अगर तुमने उसे पूरा नंगा कर दिया तो वो मज़ा नहीं आ पाता।

इसीलिए मैंने मैडम के शरीर पर उनकी ब्रा और पैंटी छोड़ दी ताकि थोड़ा फील आ सके। उसके बाद मैंने जैसे ही अपना लंड उनकी गांड पर टिकाया तो वो उनके छेद के ऊपर ही अटक गया, और मैं समझ गया कि यह ऐसे अन्दर नहीं जाएगा। मैंने कहीं से वैसलिन ढूँढी और उनकी गांड के छेद पर और अपने लंड पर लगाई, एक हाथ से मैडम का मम्मा पकड़ा और एक हाथ उनके कंधे पर रखा और झट से उनके अन्दर तक बाड़ दिया।

वो तड़प उठी और उनकी उस तड़प को देख कर मैं और उत्तेजक हो गया, मैंने उनकी गांड में 8-10 धक्के मारे और उनके बगल में ही लेट गया और उनसे लिपट के उन्हें प्यार करने लगा। मगर वो एक खेली-खाई औरत थी, वो कहाँ थकने वाली थी। तो उन्होंने मेरे लण्ड को जगाने के लिए चूसना चालू किया। फिर वो मेरे ऊपर चढ़ गई और बोली- अब मेरी बारी !

और उन्होंने मुझसे धक्के लगवाने चालू किये। उनके वो उछलते हुए दो बम और उनकी आँखों में छलकती हुई हैवानगी मुझे पागल कर रही थी। मगर साथ ही मैं थकता भी जा रहा था। फिर आखिर मैंने उन्हें अपने से लिपटा लिया और सोचा कि वो मान जाएगी मगर वो कहाँ मेरे कहे में आने वाली थी।

हम पसीने-2 हो रहे थे, वो मेरे में हिम्मत नहीं रही थी। जब मैं बहुत थक गया तो मुझे उनसे मिन्नत करनी पड़ी- आज बस इतना ही !

उनमें ऐसी हैवानियत मैंने पहले कभी नहीं देखी थी। खैर हम बहुत देर तक एक दूसरे से प्यार करते रहे। उन्होंने मुझे बाद में मुझे खुली छूट दी कि मैं कुछ भी कर लूँ उनके साथ !

मगर मेरी तो फटी पड़ी थी !

फिर वो नहाने चली गई, मैं बिस्तर पर ही पड़ा रहा और थक कर सो गया।

फिर हम पूरे दिन नंगे ही रहे।

जब मैं थक कर सोया हुआ था तब कुछ घंटे बाद मैंने महसूस किया कि कुछ मुलायम सी चीज़ मेरे मुँह को छू रही है, तो मैंने पाया कि मैडम जी मेरे मुँह में अपने मम्मे देने की कोशिश कर रही थी। मुझे तो जैसे यह एक सपना लग रहा था कि सोकर उठते ही एक मम्मा मेरे मुँह में !

आऽऽहाऽऽ ! क्या एहसास था वो !

फिर मैंने मैडम के मम्मे बहुत देर तक चूसे। मेरी क्या आदत है कि जब मैं कोई चीज़ चूसता हूँ तो पूरा मज़ा लेता हूँ उसका। मैंने बहुत देर तक उन थनों को चूसा और मदहोश होता चला गया। फिर उसके बाद मैडम बोली- हम एक काम करते हैं ! एक खेल खेलते हैं।

खेल यह था कि वो मेरी आँखों पर पट्टी बांधेंगी और फिर मेरे मुँह में एक एक करके अपने जिस्म का एक एक हिस्सा छुएंगी और मुझे पहचानना होगा कि वो कौन सा हिस्सा है।

मुझे ठीक लगा और उन्होंने मेरी आँखों पर एक पट्टी बांध दी। फिर उन्होंने पहले अपना कन्धा मेरे मुँह से छुआ, फिर अपनी कोहनी, फिर अपने रसीले होंठ, फिर अपना मम्मा, और फिर आखिर में अपनी चूत मेरे मुँह पर लगाई और फिर मैंने उनकी चूत को बहुत देर चूसा, जो कि गीली थी।

फिर हमने सोचा कि अगर खेलना ही है तो टाइम बाँट लेते है- जैसे हर आधे घंटे कुछ खास करेंगे, जैसे एक बार सिर्फ चूमा-चाटी, एक बार सिर्फ गांड मारना, एक बार सिर्फ चुदाई, एक बार सिर्फ चूचे चोदना, एक बार फ्री स्टाइल बिना चुदाई के !

जो नियम तोड़ेगा उसे दूसरे से अपने मुँह पे मुतवाना पड़ेगा।

चुम्बन वाले वक़्त में तो हमने बस माँ बहन ही कर दी कि अगर कोई हमें देख लेता तो बस उसकी फट ही जाती, जैसे हमने सारी जान उसमें ही लगा दी।

अब आई गांड की बारी तो मैंने उसे घोड़ी बनाया और गांड मारनी चालू की तो वो इसका आनन्द लेने लगी और उसके मुँह से सिसकियाँ निकलने लगी। उसकी सिसकियाँ सुनकर मेरे अन्दर को चोदुमल बाहर आता जा रहा था और मेरी स्पीड तेज़ हो गई जिससे उसकी सिसकी चीख में बदलने लगी और वो बोलने लगी- बस राज निकाल ले, वरना सिलाई उधड़ ही जाएगी मेरी गाण्ड की !

उसकी बात सुनकर मुझे उसकी गांड के छेद पर तरस आ गया जोकि काफ़ी खुल चुका था। मगर कसम से ! क्या गांड थी वो ! जो एक बार देख ले बस सीधा मारने का मन करे !

तो इसी के साथ ही मैं उससे शर्त जीत गया था क्योंकि वो वक़्त से पहले ही हार मान चुकी थी। फिर मैंने उसका मुँह अपने लंड के पास किया और एक तेज़ धार उसके मुह पर मार दी।

फिर आई चुदाई की बारी : मैं थकता जा रहा था और वो चुदक्कड़ औरत मुझ पर चढ़ गई और उसने मेरा लंड अपनी चूत के अन्दर डलवा लिया जोकि किसी भट्टी की तरह गरम थी और बस फिर बस धक्के पे धक्के ! सबसे ख़ास बात उसमें यह थी कि वो मेरे सारे धक्के झेल गई और साथ ही मुझे ब्रेक भी दे रही थी। मगर मैं नया था और थक कर हट गया। जिसका मतलब मैं हार गया था, तो उसने मेरा मुँह अपनी चूत के पास किया और फिर एक मोटी सी धार मेरे मुँह पर मार दी। उस बार ऐसा लगा कि जैसे मुझ पर अमृतवर्षा हो रही है।

खैर किसी तरह मैंने अपने आप को संभाला और फिर आई उसके चूचे चोदने की बारी ! यह हम पहली बार कर रहे थे। मैंने उसे बिस्तर पर लिटाने के बजाये घुटनों पर बैठाना ज्यादा सही समझा। फिर उसने अपने दोनों चूचों से मेरा लंड पकडा और चुदाई चालू की। थोड़ी देर मुझे उसमें ज्यादा मज़ा नहीं आया तो मैंने उनसे सहमति लेकर अपना अगला काम चालू किया जहाँ हम आज़ाद थे कुछ भी करने को !

तो पहले तो थोड़ी देर 69 में आये और उसके बाद हम लोगों ने चूमा-चाटी चालू कर दी तो इस बार मुझे ऐसा लगा कि वो सिर्फ अपनी भूख नहीं मिटा रही थी बल्कि उनके मन में कुछ और था, जैसे वो मुझे शायद अलग नज़र से देखने लगी, उनकी आँखों में तृप्ति के साथ थोड़ा प्यार भी नज़र आया, जैसे कि वो मुझे आजमा रही थी। उनका स्पर्श बदलता जा रहा था, वो सेक्स नहीं मेरे साथ प्यार कर रही थी।

हम जो पहले बहुत उत्तेजित हो गए थे, वहीं अब हम शांति से एक दूसरे को सिर्फ प्यार कर रहे थे। वो मुझसे लिपट कर लेट गई और मुझे ऐसे ही रहने को कहा। वो बीच बीच में कभी मेरे बालों पर हाथ फिराती, कभी मेरे गालों को चूमती।

मैं ढंग से समझ नहीं पाया कि यह अचानक क्या हुआ है।

बाकी की कहानी अगले भाग में !

और अब आप मुझे अपने विचार ज़रूर भेजना कि आपको यह कहानी कैसी लगी।

coolrajaforever@gmail.com

2 comments: